Saturday, March 1, 2014

POLITICS IS A MEAN OF BUSINESS & CORRUPTION THESE DAYS ...

जगा गये जो देश को , दिला गये अधिकार ,
ऐसे नेता कम बचे , अधिक हैँ चाटुकार ।
अधिक हैँ चाटुकार , लक्ष्य कुर्सी हथियाना ,
मिले लूट की छूट , यही गारण्टी पाना ।
हो तिहाड़ ही जिन लोगोँ की आखिरी मंज़िल ,
उन्हेँ दण्ड दो ,जो हैँ लोकतंत्र के क़ातिल ।
- कृष्ण गोपाल विद्यार्थी



Post a Comment